सोमवार, 15 फ़रवरी 2010

मां के कर्मो की सजा....


...पागल सांड-फ्लू!!!

इस लिए कहते हैं ...कब्ज़ा साचा !!


सपोलों को दूध पिलाते हुए!!


सरकारी काम तो ऐसे ही होते हैं !


यही होगा जब अधिकारी होंगे सुस्त !

ज्यादा खाओगे पियोगे होंगे खराब...!


भाई ! सब की यही हालत हैं !


गिरता खंडहर....!


तीन धार....


रविवार, 7 फ़रवरी 2010